blank

Sanjeev Kumar Verma

डॉ संजीव कुमार वर्मा, पीएचडी (पशु पोषण), पीजीडीटीएमए; एआरएस भारतीय कृषि अनुसंधान सेवा (ARS) के 1996 बैच के वैज्ञानिक हैं और वर्तमान में भाकृअनुप - केंद्रीय गोवंश अनुसंधान संस्थान में वरिष्ठ वैज्ञानिक के पद पर अपनी सेवाएँ दे रहे हैं| इससे पूर्व डॉ वर्मा अनेक भारतीय संस्थानों में वैज्ञानिक सेवाएं दे चुके हैं। डॉ वर्मा ने लगभग नौ वर्ष तक पहाड़ी और पर्वतीय कृषि पारिस्थितिकीतंत्र में पशुपालन पर शोध के उपरांत लगभग 5 वर्ष तक द्वीपीय कृषि पारिस्थितिकीतंत्र में पशुपालन पर शोध कार्य किया। इसके बाद लगभग पांच वर्ष तक उत्तरी मैदानी क्षेत्रों में गोवंश पर अनुसंधान करने के बाद लगभग एक वर्ष तक दक्षिणी कृषि पारिस्थितिकीतंत्र में मुर्गीपालन पर अध्ययन किया। डॉ वर्मा कई राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त पुस्तकों के लेखक होने के साथ-साथ वर्तमान में 'एनिमल न्यूट्रिशन सोसायटी ऑफ इंडिया', करनाल के 'वाइस प्रेजीडेंट' भी हैं और पशु पोषण के क्षेत्र में लगातार उच्च कोटि के अनुसन्धान एवं आम लोगों, किसानों एवं विद्यार्थियों तक विज्ञान के प्रचार प्रसार में कार्यरत हैं | सोशल मीडिया में डॉ वर्मा "बंशी विचारक" के नाम से जाने जाते हैं और देश के हजारों वैज्ञानिकों, छात्रों, एवं किसानों द्वारा लगातार फॉलो किये जाते हैं |

rss feed

Sanjeev Kumar Verma's Latest Posts

दशानन का दसवां सिर – गॉसिपोल

दशानन का दसवां सिर – गॉसिपोल

| December 6, 2017 | 0 Comments

दशानन का दसवां सिर है….. गॉसिपोल। कुदरत ने इसे पौधे को इसलिए दिया था कि यह कीड़ें-मकोड़ों से पौधे की रक्षा कर सके। इसे खाने वाले कीड़ें-मकोड़े इनफर्टाइल हो जाते थे। यह सिर वैसे तो किचन में कम ही दिखाई देता है मगर कुछ इन्नोवेटिव महिलाएं उस चीज की खीर बनाती हैं जिसमें गॉसिपोल प्रचुर […]

Continue Reading

घी पुराण: डॉ संजीव कुमार वर्मा

| November 28, 2017 | 0 Comments

दूध में सामान्यतः 2.5 से 6 प्रतिशत तक वसा होती है। मिल्क फैट वस्तुतः विभिन्न फैटी एसिड एस्टर्स जिन्हें ट्राइग्लिसराइड्स भी कहते हैं का मिश्रण है। ये फैटी एसिड्स भी दो तरह के हैं 1. सैचुरेटिड और 2. अनसैचुरेटेड। सैचुरेटिड में मुख्य हैं ब्यूटाईरिक एसिड, कैपरोइक एसिड, कैपरिक एसिड, कैप्रिलिक एसिड, लॉरिक एसिड, माईरिस्टिक एसिड, […]

Continue Reading

दशानन का नौवाँ सिर: सैपोनिन।

दशानन का नौवाँ सिर: सैपोनिन।

| November 26, 2017 | 0 Comments

दशानन का नौवाँ सिर है…. सैपोनिन। यह वह फाईटोकेमिकल है जो पानी में घुलने पर झाग पैदा करता है। इसी के कारण पौधों के बीजों में थोड़ा कडुआ स्वाद आता है और इसी कड़वेपन के कारण वह चिड़ियों और कीड़े मकोड़ों से बच रहता हैं। पौधों में सैपोनिन की मात्रा बहुत ही कम होती है […]

Continue Reading

दशानन का पांचवा सिर: ऑक्जेलिक एसिड या ऑक्सालेट

दशानन का पांचवा सिर: ऑक्जेलिक एसिड या ऑक्सालेट

| November 20, 2017 | 0 Comments

दशानन का पांचवा सिर है ऑक्जेलिक एसिड या ऑक्सालेट। यह वह पदार्थ है जो पौधों में तो होता ही है। इसके अलावा मानव शरीर भी इसका उत्पादन करता रहता है। जो लोग ऑक्सालेट रिच फ़ूड ज्यादा खाते हैं या जिन व्यक्तियों के शरीर में इसका उत्पादन ज्यादा होने लगता है उन सभी की किडनी में […]

Continue Reading

दशानन का आठवां सिर: पॉलीफिनोल्स व टैनिन्स

दशानन का आठवां सिर: पॉलीफिनोल्स व टैनिन्स

| November 16, 2017 | 0 Comments

दशानन का आठवां सिर है… पॉलीफिनोल्स व टैनिन्स। यही वह पदार्थ है जिसके कारण खाने के चीजों में कसैलापन आता है। कुदरत ने इसे भी पौधों को इसलिए दिया था कि वह अपनी रक्षा कर सकें कीड़े- मकोड़ों से और जंगली जानवरों से। पहले बात करते हैं इसके रावण स्वरुप की। भोजन में उपस्थित होने […]

Continue Reading

ठंडा ठंडा पानी

| November 14, 2017 | 0 Comments

1978 में एक फ़िल्म आई थी ‘पति पत्नी और वो’। कॉमेडी मूवी थी और स्क्रीनप्ले के लिए कमलेश्वर जी को फ़िल्मफ़ेअर अवार्ड भी मिला था। इसी का एक गाना था… ठंडे-ठंडे पानी से नहाना चाहिए… उस समय काफी दिमाग लगाया कि आखिर ठंडे पानी से ही क्यों? मगर समझ नहीं आया। फिर विज्ञान पढ़ा तो […]

Continue Reading

दशानन का सप्तम सिर: लेक्टिंस

दशानन का सप्तम सिर: लेक्टिंस

| November 10, 2017 | 0 Comments

जैसे घट-घट में राम है उसी तरह घर-घर में रावण भी है। दस लेखो की इस सीरीज में हम आपको रावण से मिलवाते हैं। जी हाँ वही प्रकांड पंडित महा विद्वान् राक्षस रावण जिसे दशानन भी कहा जाता है। हमारा दशानन लंका में नहीं रहता। वह रहता है आपकी रसोई में। आप रोज उसे खाते […]

Continue Reading

<span style='font-size: 12pt;'>दशानन के दस सिर</span> <hr />दशानन का षष्टम सिर: ग्लूकोसिनोलेट

दशानन के दस सिर
दशानन का षष्टम सिर: ग्लूकोसिनोलेट

| November 9, 2017 | 0 Comments

जैसे घट-घट में राम है उसी तरह घर-घर में रावण भी है। दस लेखो की इस सीरीज में हम आपको रावण से मिलवाते हैं। जी हाँ वही प्रकांड पंडित महा विद्वान् राक्षस रावण जिसे दशानन भी कहा जाता है। हमारा दशानन लंका में नहीं रहता। वह रहता है आपकी रसोई में। आप रोज उसे खाते […]

Continue Reading

<span style='font-size: 12pt;'>दशानन के दस सिर</span> <hr />दशानन का चौथा सिर: फाइटिक एसिड या फाइटेट

दशानन के दस सिर
दशानन का चौथा सिर: फाइटिक एसिड या फाइटेट

| October 25, 2017 | 0 Comments

जैसे घट-घट में राम है उसी तरह घर-घर में रावण भी है। दस लेखो की इस सीरीज में हम आपको रावण से मिलवाते हैं। जी हाँ वही प्रकांड पंडित महा विद्वान् राक्षस रावण जिसे दशानन भी कहा जाता है। हमारा दशानन लंका में नहीं रहता। वह रहता है आपकी रसोई में। आप रोज उसे खाते […]

Continue Reading

<span style='font-size: 12pt;'>दशानन के दस सिर</span> <hr />दशानन का तीसरा सिर: एमाइलेज इनहिबिटर

दशानन के दस सिर
दशानन का तीसरा सिर: एमाइलेज इनहिबिटर

| October 24, 2017 | 0 Comments

जैसे घट-घट में राम है उसी तरह घर-घर में रावण भी है। दस लेखो की इस सीरीज में हम आपको रावण से मिलवाते हैं। जी हाँ वही प्रकांड पंडित महा विद्वान् राक्षस रावण जिसे दशानन भी कहा जाता है। हमारा दशानन लंका में नहीं रहता। वह रहता है आपकी रसोई में। आप रोज उसे खाते […]

Continue Reading