अंडे का फंडा

| May 25, 2017 | 2 Comments

आओ बताएं तुम्हे अंडे का फंडा…

वजन: मुर्गी के केस में 38-60 ग्राम या इससे भी अधिक, मगर पोषण इतना कि भ्रूणावस्था की आवश्यकताएं तो पूरी हो ही जाती हैं | इसके अतिरिक्त भी हैचिंग के दो दिन बाद तक भी चूजे को कुछ ना मिले तो वह इसी पर जिन्दा रह सकता है|

कुल मिलाकर चार भागों से बना – 1. बाहरी कवच 2. आंतरिक झिल्ली 3. अंडे की सफेदी या अल्ब्युमिन और 4. अंडे की जर्दी या योक |

बाहरी कवच 94% कैल्शियम कार्बोनेट, 1% मैग्नीशियम कार्बोनेट, 1% कैल्शियम फोस्फेट व 4% प्रोटीन से बना |

अल्ब्युमिन कुल अंडे के भार का 56-61% और योक होता है 27-32% |

दो अंडे एक सामान्य कामकाजी आदमी की दैनिक पोषण आवश्यकताओं की कितनी पूर्ति कर पाते होंगे?

ऊर्जा की 6%, प्रोटीन की 20%, वसा की 22%, कैल्शियम की 8%, फॉस्फोरस की 27%, आयरन की 26%, आयोडीन की 10%, विटामिन A की 20%, विटामिन D की 25%, विटामिन B1 की 8%, विटामिन B2 की 16% और नियासिन की 6% आपूर्ति हो जाती है |

अंडे को पहचानेंगे कैसे कि वह ताज़ा है?

हर एक अंडे में हवा का एक बुलबुला होता है, चौड़े वाले सिरे की तरफ. ताजा अंडे में यह छोटा होता है. जैसे जैसे अंडा पुराना होता जायेगा इसका आकार भी बढ़ता जायेगा | तोड़ने पर अंडे का पीले वाला हिस्सा अंडे के ठीक मध्य में मिलना चाहिए | अंडे का कवच बिना क्रेक का होना चाहिए. अंडे का दाम उसके आकार पर निर्भर करता है |

आकृति के आधार पर दो ग्रेड बनाये गये हैं और आकार के आधार पर चार | इस प्रकार अंडे के 8 ग्रेड हुए.

अंडे का कवच अगर साफ़ सुथरा है, कोई क्रेक नहीं है और आकृति सामान्य है तो उसे A ग्रेड का अंडा कहेंगे और अगर अंडे का कवच साफ़ सुथरा नहीं है, खुरदरा है, उस पर किसी प्रकार के दाग धब्बे हैं या आकृति असामान्य है तो उसे B ग्रेड का अंडा कहेंगे |

38-44 ग्राम का है तो स्माल कहलायेगा, 45-52 ग्राम का है तो मीडियम, 53-59 ग्राम का है तो लार्ज और अगर 60 ग्राम से अधिक का है तो एक्स्ट्रा लार्ज कहलायेगा |

जैसा अंडा वैसे पैसे | आज का रेट देखना हो तो यहाँ देख लेना (NATIONAL EGG CO-ORDINATION COMMITTEE)

http://www.e2necc.com/eggdailyandmontlyprices.aspx

आज होजपेट (बेल्लारी, कर्नाटक) में सबसे सस्ता बिका और मुंबई (महाराष्ट्र) में सबसे महंगा | गत 14 दिनों में कोलकाता का औसत सबसे अधिक रहा और होजपेट का सबसे कम | सन्डे हो या मंडे रोज खाए अंडे |

और हाँ, 13 अक्टूबर होता है – विश्व अंडा दिवस….सभी को विश्व अंडा दिवस की एडवांस में शुभकामनायें |

आने वाली पोस्ट में चर्चा करेंगे ‘कृत्रिम अंडे, यानि, चायनीस अंडे, यानि प्लाटिक के अंडे, यानि सिंथेटिक अंडे के भूत की……आपने देखा है ये भूत…??

Egg Vigyaan

Cite this Article


Sanjeev Kumar Verma. अंडे का फंडा. In: विज्ञान संग्रह. vigyaan.org. Access URL: http://vigyaan.org/blogs/bb/896/. Retrieved November 17, 2017.

Tags: ,

blank

About the Author ()

डॉ संजीव कुमार वर्मा, पीएचडी (पशु पोषण), पीजीडीटीएमए; एआरएस भारतीय कृषि अनुसंधान सेवा (ARS) के 1996 बैच के वैज्ञानिक हैं और वर्तमान में भाकृअनुप – केंद्रीय गोवंश अनुसंधान संस्थान में वरिष्ठ वैज्ञानिक के पद पर अपनी सेवाएँ दे रहे हैं| इससे पूर्व डॉ वर्मा अनेक भारतीय संस्थानों में वैज्ञानिक सेवाएं दे चुके हैं। डॉ वर्मा ने लगभग नौ वर्ष तक पहाड़ी और पर्वतीय कृषि पारिस्थितिकीतंत्र में पशुपालन पर शोध के उपरांत लगभग 5 वर्ष तक द्वीपीय कृषि पारिस्थितिकीतंत्र में पशुपालन पर शोध कार्य किया। इसके बाद लगभग पांच वर्ष तक उत्तरी मैदानी क्षेत्रों में गोवंश पर अनुसंधान करने के बाद लगभग एक वर्ष तक दक्षिणी कृषि पारिस्थितिकीतंत्र में मुर्गीपालन पर अध्ययन किया। डॉ वर्मा कई राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त पुस्तकों के लेखक होने के साथ-साथ वर्तमान में ‘एनिमल न्यूट्रिशन सोसायटी ऑफ इंडिया’, करनाल के ‘वाइस प्रेजीडेंट’ भी हैं और पशु पोषण के क्षेत्र में लगातार उच्च कोटि के अनुसन्धान एवं आम लोगों, किसानों एवं विद्यार्थियों तक विज्ञान के प्रचार प्रसार में कार्यरत हैं | सोशल मीडिया में डॉ वर्मा “बंशी विचारक” के नाम से जाने जाते हैं और देश के हजारों वैज्ञानिकों, छात्रों, एवं किसानों द्वारा लगातार फॉलो किये जाते हैं |

Comments (2)

Trackback URL | Comments RSS Feed

  1. डॉ सुनील कुमार वर्मा says:

    बाबा, अंडा दिवस की शुभकामनाओं की आवश्यकता सबसे ज्यादा मुर्गियों को है ताकि उन पर लोग अत्याचार कुछ कम करे अंडा फार्म पर……

    and this video from India:

    https://www.facebook.com/PETAIndia/videos/10155385556661683/

  2. चेतन राणा says:

    Dr. Sahab, In actual what an egg is? is it the artificially Menstruation of Hen? or Its a natural process and they have the habit to grow egg in their stomach so frequently( or their birth cycle to very quick)?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *