RSSबंशी बाबा

चांदी: एक विज्ञान कथा

चांदी: एक विज्ञान कथा

| July 25, 2017 | 3 Comments

कुछ लोग चांदी का चम्मच मुँह में लेकर पैदा होते हैं। कुछ मेरे जैसे सौभाग्यशाली होते हैं जिन्हें जीवन का पहला ग्रास चांदी के चम्मच से चटाया जाता है। राजे-महाराजे भी चांदी के बर्तनों में खाना खाया करते थे। मिठाइयों पर चांदी का वर्क लगाया जाता था और बहते पानी में चांदी का सिक्का फेंककर […]

161 total views, 3 views today

Continue Reading

अजगरबत्ती

| July 19, 2017 | 3 Comments

आज बात करते हैं ‘अगरबत्ती’ की। वैसे इसे ‘अजगरबत्ती’ कहूँ तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी। सनातन धर्म की पूजा पद्धति में कहीं भी अगरबत्ती का उल्लेख नहीं मिलता। मगर यह कब और कैसे हमारे पूजा घरों और मंदिरों तक पहुंच गई यह तो बता पाना मुश्किल है। वैसे बौद्ध और ताओ धर्म के उपासक अगरबत्तियों […]

235 total views, 3 views today

Continue Reading

आपके मोटापे का दोस्त – ग्रेलिन (Ghrelin) हरमोंन

आपके मोटापे का दोस्त – ग्रेलिन (Ghrelin) हरमोंन

| June 26, 2017 | 2 Comments

ये भी खा लूँ, वो भी खा लूँ, बकरा भी खा लूँ, कटड़ा भी खा लूँ, सब खा लूँ। खा लो भाई,  खा लो, तुम्हीं खा लो सब…! किसी और के लिए मत छोड़ना कुछ भी ! घर में और लोग तो हैं ही नहीं जैसे। एक अकेले तुम ही हो। लो तुम्हीं खा लो […]

614 total views, 2 views today

Continue Reading

इनफर्टिलिटी एवं मोटापा – एक सीधा सम्बन्ध

इनफर्टिलिटी एवं मोटापा – एक सीधा सम्बन्ध

| June 22, 2017 | 0 Comments

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में पोस्टिंग के दौरान जब मैं ‘फील्ड विजिट’ पर जाता था, तो किसान अक्सर शिकायत करते पाये जाते थे – “देखियो डॉ साहब म्हारी भैंस गाभिन ही ना होत्ती”। मैं उससे पूछता…क्या क्या खिलाते हो। “अजी मैं तो हरा चारा बि खूब खुआउँ, भुस बि खुआउँ अर दाणा बि खूब ई दूँ। […]

483 total views, 2 views today

Continue Reading

नरों में निप्पल्स एवं अन्य अवशेषी अंग: एक परिचय

नरों में निप्पल्स एवं अन्य अवशेषी अंग: एक परिचय

| June 14, 2017 | 1 Comment

अवशेषी अंग…..वो अंग जो बेकार हैं…जिनकी उपयोगिता मनुष्य के लिए अब समाप्त हो चुकी हैं| रही होगी कभी, हमारे पूर्वजों में। कालान्तर में प्रकृति को लगा होगा कि ये सब अंग बेकार हैं इसलिए अब इन अंगों का आयात-निर्यात बंद कर दो। जैसे डाक विभाग ने टेलीग्राम बंद कर दिया। एक दो नहीं पूरे दस […]

539 total views, 2 views today

Continue Reading

प्रकृति का वरदान – मेलाटोनिन हॉर्मोन’

| June 13, 2017 | 1 Comment

वर्ष 1940…. कुंदन लाल सहगल साहब गुनगुना रहे थे… सो जा राजकुमारी सो जा… सो जा मैं बलिहारी सो जा… सो जा राजकुमारी सो जा… इन ‘लोरियों’ से रिलीज होता है ‘मेलाटोनिन हॉर्मोन’ जो जिम्मेदार है ‘सरकेड़ियन रिदम’ बोले तो…. सोने और जागने के चक्र के लिए।  मेलाटोनिन हॉर्मोन मनुष्यों और पशुओं की ‘पिनियल ग्लैंड’ […]

574 total views, 5 views today

Continue Reading

किड़नी स्टोन उर्फ़ पथरी

किड़नी स्टोन उर्फ़ पथरी

| June 12, 2017 | 5 Comments

एक थे मलिक साहब। हमारे साथ पढ़ते थे पंतनगर विश्वविद्यालय में। अविभाजित उत्तर प्रदेश के सबसे खूबसूरत शहर से थे, जहाँ कालान्तर में हमने अपनी ज़िन्दगी के 8 साल 8 महीने और 18 दिन बड़ी शान से गुजारे। जी हाँ, दून वैली। पहाड़ों की रानी मसूरी से मात्र 35 किलोमीटर दूर। उनकी बस एक ही […]

975 total views, 2 views today

Continue Reading

भारत में गोवंश: एक गहन चिंतन – भाग 1

भारत में गोवंश: एक गहन चिंतन – भाग 1

| June 1, 2017 | 0 Comments

चलो एक बछड़ा तो अख़लाक ने मार दिया या नहीं मार दिया और खा लिया या नहीं खा लिया। पर इसकी सज़ा तो उसे न्यायपालिका से भी पहले समाज़ ने दे ही दी। पहले अल्पसंख्यकों के सरपरस्त यह सिद्ध करने में लगे रहे, कि जो मांस फ्रिज़ में पाया गया वह तो मटन था (उत्तर […]

354 total views, 3 views today

Continue Reading

नॉन वेज की वेज बात – बंशी बाबा के साथ

| June 1, 2017 | 0 Comments

आज नॉन-वेज की वेज बात ! तो ज़नाब मुर्गी 🐔 पकाओ या मुर्गा 🐓, हैं दोनों ‘चिकन’ ही। मगर ‘मटन’ ने बड़ा कन्फ्यूजन कर रखा है। ‘मटन’ होता है नर भेड़ 🐑 या मादा भेड़ 🐏 का मांस। जबकि नर या मादा बकरे के मांस को बोलते हैं ‘चेवोन’। अर ताऊ बकरे का मांस खाकै […]

430 total views, 3 views today

Continue Reading

राइस ब्रान (Rice Bran) आयल का पोस्ट-मार्टम

राइस ब्रान (Rice Bran) आयल का पोस्ट-मार्टम

| May 29, 2017 | 11 Comments

जब हम पंतनगर विश्वविद्यालय में स्नातक पाठ्यक्रम में अध्ययनरत थे तो ‘पशु पोषण के सिद्धांत’ नामक विषय में जब प्रोफ़ेसर साहब ‘पशुओं का खान पान कैसा हो’ पढ़ाते थे तो गेहूं के चोकर (व्हीट ब्रान) और धान के चोकर (राईस ब्रान) की बात भी होती थी। पशुओं के लिए इनकी बहुत महत्ता है। है तो […]

1,920 total views, 2 views today

Continue Reading